BHAGWAN BABU 'SHAJAR'

HAQIQAT

114 Posts

2117 comments

Bhagwan Babu Shajar


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

मौका भुनाते लालू

Posted On: 14 Nov, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Politics social issues पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

उस कोने भी जलाएँ एक दीप

Posted On: 21 Oct, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi Sahitya Junction Forum Special Days में

1 Comment

मोदी मंत्र

Posted On: 3 Oct, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

1 Comment

मोदी की सोच

Posted On: 6 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Hindi News Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

3 Comments

नाकामियों की फेहरिस्त

Posted On: 8 Jun, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics social issues में

2 Comments

जनता का फैसला सर्वोपरि

Posted On: 20 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

आँधी मोदी की नहीं काँग्रेस की

Posted On: 16 May, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

7 Comments

ऐसा अक्सर होता है – Contest

Posted On: 27 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya कविता में

3 Comments

दर्द-ए-दिल – Contest

Posted On: 21 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya कविता में

13 Comments

गुनाह – Contest

Posted On: 16 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya कविता में

22 Comments

रंग-ए-मोहब्बत- Contest

Posted On: 15 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Hindi Sahitya कविता में

20 Comments

जरा धीरे चलना – Contest

Posted On: 10 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Contest Junction Forum कविता में

5 Comments

अनुभवी चले नवसिखुआ की राह

Posted On: 6 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

17 Comments

राजनीति की आम व खास चालें

Posted On: 3 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

8 Comments

वोट के लिए राजनीतिक तरीके

Posted On: 29 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

10 Comments

राजनीति की नई हवा

Posted On: 27 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

7 Comments

मोहब्बत के अफसाने

Posted On: 26 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum social issues कविता में

6 Comments

लाचार

Posted On: 22 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Celebrity Writer Hindi Sahitya कविता में

4 Comments

कैसे है ये धर्म और धर्म के रखवाले

Posted On: 21 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics social issues में

0 Comment

लोकपाल : अन्ना का सम्मान

Posted On: 19 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Politics पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

11 Comments

शर्तों की राजनीति

Posted On: 16 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

3 Comments

समलैंगिकता की आजादी : मर्यादित या अमर्यादित

Posted On: 13 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

4 Comments

सत्ता के पेंच में लालची होने का खतरा

Posted On: 10 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

8 Comments

असमंजस

Posted On: 6 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

7 Comments

भारत के विश्वगुरू होने पर सन्देह

Posted On: 4 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

2 Comments

समझे अपनी-अपनी भूमिका

Posted On: 28 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

0 Comment

शिकायत – आदरणीय जागरण परिवार से

Posted On: 27 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Junction Forum Others Others में

6 Comments

यौन शोषण – अपराध या मानसिक विकृति

Posted On: 24 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

22 Comments

कितना कठिन है अब मुस्कुराना

Posted On: 22 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

6 Comments

आम इंसान और सचिन

Posted On: 15 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

4 Comments

कानून का भ्रम

Posted On: 13 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

2 Comments

एक समझ की दरकार

Posted On: 12 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

0 Comment

माटी का दिया…

Posted On: 5 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

2 Comments

दीवाली ही दीवाली

Posted On: 1 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

8 Comments

सुशासन पर दाग

Posted On: 30 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

11 Comments

मखमली आवाज का दौर

Posted On: 25 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

7 Comments

अंधविश्वास के भरोसे सरकार

Posted On: 23 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

2 Comments

वो कौन है ..?

Posted On: 22 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) 100 Business Career में

16 Comments

विकासपुरूष की योजना

Posted On: 18 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) Business Career Celebrity Writer में

8 Comments

फेलिन की राजनीतिक तबाही में दीवाली

Posted On: 17 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) Business Career Celebrity Writer में

9 Comments

जेल का खेल

Posted On: 15 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) Business Career Celebrity Writer में

11 Comments

आखिर सचिन महान क्यों…?

Posted On: 11 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

(1) Business Career Celebrity Writer में

9 Comments

हिंग्लिश वाली हिन्दी – Contest

Posted On: 27 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

0 Comment

रस्मों की हिन्दी – Contest

Posted On: 20 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

24 Comments

हिन्दी ब्लॉगिंग और आज – Contest

Posted On: 15 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

22 Comments

मज़हबी भूख

Posted On: 12 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

9 Comments

मिल सकता है हिन्दी को सम्मान – Contest

Posted On: 7 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.57 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

32 Comments

अंग्रेजी : गरीबो के लिए अभिशाप – Contest

Posted On: 3 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

24 Comments

ढ़ोंगी बाबाओं का जाल

Posted On: 1 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

12 Comments

कृष्ण-धर्म

Posted On: 28 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

6 Comments

84 कोसी परिक्रमा

Posted On: 25 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.86 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

16 Comments

समर्थक चाहिए या वोटर

Posted On: 20 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

14 Comments

महिषासुर समाज के लिए चाहिए ‘दुर्गा’

Posted On: 2 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

14 Comments

मन का झरोख़ा

Posted On: 30 Jul, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Business Career Celebrity Writer Contest में

26 Comments

ग़ज़ल

Posted On: 29 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

36 Comments

अपनी अपनी बीमारी…

Posted On: 27 Apr, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.17 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

38 Comments

मोदी ही मोदी

Posted On: 15 Apr, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (11 votes, average: 4.18 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

40 Comments

ज़ालिम है वो….

Posted On: 4 Apr, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

28 Comments

श्मशान कहता है …..

Posted On: 25 Mar, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

31 Comments

ज़ख़्म

Posted On: 5 Mar, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

34 Comments

ग़ुनाह

Posted On: 5 Feb, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

28 Comments

मै तो मिट्टी हूँ

Posted On: 22 Jan, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

2 Comments

प्रेम और मै – Valentine Contest

Posted On: 13 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

27 Comments

उनके लिये – Valentine Contest

Posted On: 6 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

20 Comments

प्रेम और आज – Valentine Contest

Posted On: 3 Feb, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.20 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

17 Comments

ये कितना उचित है ?

Posted On: 7 Sep, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

18 Comments

वतन के शहीदों

Posted On: 12 Aug, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 4.62 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

10 Comments

हर पल आनंद के

Posted On: 6 Aug, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

7 Comments

उसके पास में

Posted On: 30 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (24 votes, average: 4.58 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

1 Comment

हर मोड पर

Posted On: 29 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 4.71 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

8 Comments

जब से आयी है वो ……..

Posted On: 22 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

6 Comments

ये क्या है…?

Posted On: 21 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

3 Comments

तुम्ही को चाहा है

Posted On: 18 Jul, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

3 Comments

शिक्षक और शिक्षा

Posted On: 24 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.88 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

6 Comments

मुक्ति और मृत्यु

Posted On: 6 Jun, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (39 votes, average: 4.85 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others sports mail टेक्नोलोजी टी टी न्यूज़ बर्थ में

66 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: mithilesh dhar dubey mithilesh dhar dubey

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: Bhagwan Babu Shajar Bhagwan Babu Shajar

के द्वारा: Bhagwan Babu Shajar Bhagwan Babu Shajar

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: vaidya surenderpal vaidya surenderpal

के द्वारा: Bhagwan Babu Shajar Bhagwan Babu Shajar

के द्वारा: सौरभ मिश्र सौरभ मिश्र

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: Bhagwan Babu Shajar Bhagwan Babu Shajar

के द्वारा: Bhagwan Babu Shajar Bhagwan Babu Shajar

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा:

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

मेरा एक भाई है जिसे एक प्रकार की मानसिक बीमारी है कि वो कोई भी काम पूरा नहीं करता बिलकुल वही स्थिती केजरीवाल की है .........इंजीनियर की नौकरी छोड़ी ......ये डिग्री किसी काम नहीं आयी .........कितना पैसा और किसी इंजीनियर का हक़ खा गया और अपने ४ साल बर्बाद किये सो अलग ..........बड़े सेवा भाव से मदर टेरेसा के पास गए ..........वहाँ भी कुछ ड्रामा कर के वापस आ गए ..........आई आर एस बनने में भी समय और पैसा बर्बाद किया .............वो भी छोड़ दिया ,,,,,. ..... अन्ना के साथ सामाजिक आंदोलन किया ............समाज और अन्ना को मूर्ख साबित कर के नेता बन गए ..........अब मुख्या मंत्री बन गए ..........जुम्मा जुम्मा चार दिन भी नहीं हुए प्रधानमंत्री बनने के सपने शुरू ............और इस आदमी की क्षमता को देखा जाये तो प्रधानमंत्री भी जून २०१४ में बन सकते हैं ..........लेकिन तब तक राष्ट्रपति का चुनाव आ जाएगा ..........हो सकता है वो भी २०१६ में राष्ट्रपति बन सकते हैं ..........लेकिन उसके बाद क्या ? ........अमेरिका का राष्ट्रपति बने बिना इस विश्व की कई समस्याओं समाधान मुश्किल है ...........आपकी स्पीड देख कर लगता है ज्यादा से ज्यादा ५ साल के भीतर आप अमेरिका का राष्ट्रपति बन सकते है .........लेकिन तब भी ये व्यक्ति संतुष्ट होगा ? मुझे संदेह है .....................!

के द्वारा: dhirchauhan72 dhirchauhan72

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

के द्वारा: savita mishra savita mishra

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

जरूरत ईमानदारी की है, कानून और लोकपाल बिल के नियमों को पालन करने की है, लेकिन हमारे नेताओ में इसकी कमी अधिकता में है। सभी की सोच अपनी रोटी, अपने कपड़े, अपने मकान और अपनी जरूरतों को पूरा करने में रहती है, नतीजतन लूट-खसोट की राजनीति व रिश्वतखोरी के नियम अलग से बनाकर आम आदमी को चूसा जाता है। और ये तो लोकपाल के बाद भी चलता रहेगा। जब तक आम आदमी जागता नहीं है तब तक आम आदमी को लूटा ही जायेगा। अहमियत आम आदमी के जागने की है, अहमियत मंत्रियों और अफसरों में ईमानदारी की है, अगर ऐसा हो सका तो बाकी कायदे नियम-कानून की आवश्यकता ही न पड़ेगी। फिर भी आज एक आम आदमी जो निःस्वार्थ भाव से समाज की गन्दगियों को दूर करने के लिए कोशिश पर कोशिश किए जा रहे है उनकी इस कोशिश को सलाम किया जाना चाहिए, उनकी हिम्मत बढ़ानी चाहिए। आज के दौर में ऐसे लोग कम मिलते है। बढ़िया समसमाइक लेख !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

When all the power and knowledge of world come to end, I am started from there………………………..I am Anil Kumar Aline………………………….हाँ…….हाँ……………हाँ…………. आप का ये कमेंट समय की परिधि के भीतर ही है.समय की परिधि के बाहर जिसे अकाल तत्व कहा गया है,वहाँ यदि समाधी के द्वारा स्थिर हो जायेंगे तो ये सब कहने के लिए बचेगा कौन.भगवन महावीर कहते हैं की समय की परिधि के बाहर स्थिर समय है और यही स्थिर समय परमात्मा है.उस अवस्था में यदि आप पहुँच जायेंगे तो ये बात कहने के लिए बचेगा कौन.इसीलिए आप का ये मुहावरा या स्लोगन सौ प्रतिशत गलत है.ज्ञान और शक्ति के अंत की आप ने बात कही है,ये भी गलत है.समय से पार असीमित ज्ञान और शक्ति है.इसीलिए स्थिर समय में रहनेवाले परमात्मा को सर्वज्ञ और सर्वशक्तिमान कहा गया है.समय के अंतर्गत कर्तापन है और समय के उस पार होनापन है.अत:आप का ये कथन अहंकार और झूठ मात्र है. When all the power and knowledge of world come to end, I am started from there………………………..I am Anil Kumar Aline………………………….हाँ…….हाँ……………हाँ………….

के द्वारा: sadguruji sadguruji

जी, यकीनन सूफी जी ने सच कहाँ है कि हम स्वयम के साक्षी नहीं हो सकते. उनके और मेरे में फर्क नहीं हैं ..................मैं बोल रहा हूँ कि सूरज निकल गया है और वो बोल रहे हैं कि रात बीत चुकी है.........यहाँ फर्क है आपमें और मुझमें ..............यहाँ आप रात को दिन का नाम दे रहे हैं जिसका मैं साक्षी हूँ..................वह न मेरी बात है और न मेरा विचार................ और हाँ मैं कोई कुछ समझाने की कोशिश नहीं कर रहा हूँ क्योंकि वह एक झूठ होगा. यह बिलकुल वैसे ही होगा जैसे कोई सफ़ेद बगुले को हरे रंग में रंगकर बोले कि बगुला हरा होता है. हाँ परन्तु जो सिखा-शिखाया है, लिखा-लिखाया है उसे मिटने की कोशिश जरुर कर रहा हूँ. यह वैसे ही है जैसे कोई बगुला खुद को हरे रंग में रंगकर मुसलेधार बारिश( अलीन) में खुद के हरे होने पर गौरान्वित हो रहा हो. ऐसे में रंग के हटाने के साथ-ही-साथ ठण्ड लग जाती है तो उसका दोष बारिश को दे रहा हो. यहाँ बारिश का बगुले के सफ़ेद और हरे होने से कोई मतलब नहीं और न ही वह निर्णायक हैं यहाँ. परन्तु वह खुद को दोष नहीं दे सकता. यह मन कि अपनी विडम्बना है कि वह खुद को दोषी ठहरा ही नहीं सकता. अतः स्वाभाविक सी बात है कि दोषी ठहराएगा बारिश को...........ऐसा ही कुछ आप दोनों के साथ है.................. राजेंद्र जी, एक बार से आपको कहना चाह रहा हूँ कि आपकी समस्या मैं नहीं बल्कि आप खुद है क्योंकि आप मुझे समझना चाहते हैं......................जिसे कभी समझा ही नहीं जा सकता और आप समझेंगे भी तो अपने मन के अनुसार.........चाहें अच्छा या बुरा ..........मैं इन दोनों से पर हूँ............हाँ एक बात बताया था कि मैं एक शीशे की तरह हूँ जिसके सामने जाने पर चाहें संदीप हो, राजेंद्र हो, शजर हो या फिर अनिल वो रूप दिखेगा जिससे वो भग रहे हैं और ज्यों ही दिखेगा फिर मुझे इनकार करते हुए भागने शुरू कर देते हैं.............आप तीनों तो बचकर निकल जायेंगे परन्तु यह अनिल कहाँ जायेगा..............हाँ...............हाँ.............हाँ.................और मुझसे भागकर आप सभी जायेंगे कहाँ प्रभु क्योंकि आप, आप नहीं मैं हूँ..................और आप एक झूठ............जैसे कि अनिल एक झूठ है.................और मैं....................हाँ..............हाँ................. When all the power and knowledge of world come to end, I am started from there………………………..I am Anil Kumar Aline………………………….हाँ…….हाँ……………हाँ………….

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

आदरणीय भगवन बाबू जी,उम्मीद है कि अब आप पूर्णत:स्वस्थ होंगे.मैंने सब कमेंट पढ़े.सूफी जी कि बात से सहमत हूँ कि-साक्षी की साधना करने वाला एक दिन निरपवाद रूप से पागल या विक्षिप्त हो जाता है- इस साधना में कही कोई बुनियादी भूल है…ये आदमी के अंदर सूक्ष्म अहंकार पैदा करता है- जितनी बार हम भीतर ये कहते हैं कि ” ‘मैं’ देखने वाला हूँ, ‘मैं’ देख रहा हूँ- हमारा ‘मैं’ यानि अहंकार और भी मज़बूत होता जाता है… दूसरी बात देखने वाले को देखने का कोई उपाय नहीं है और मज़ा ये है कि जो ये कह रहा है कि ‘मैं’ साक्षी हूँ वही तो अहंकार है- कौन है जो साक्षी है–???? कोई ख़ुद से ख़ुद का साक्षी कैसे हो सकता है-??? साक्षी की बुनियाद झूठ पर खड़ी है.चलिए साक्षी वाली बात खत्म हुई.मै केवल एक बात पूछना चाहता हूँ कि हम लोगों के भीतर ये जो हमारे संस्कारों के अनुसार तर्क-वितर्क कर रहा है ये अहंकार नहीं तो और क्या है.अनिल जी अहंकार प्रतीत होने वाली अपनी इन पंक्तियों की आप विस्तृत व्याख्या कीजिये- When all the power and knowledge of world come to end, I am started from there………………………..I am Anil Kumar Aline………………………….हाँ…….हाँ……………हाँ………….

के द्वारा:

हाँ.....हाँ........................अच्छा तो मैं ही अभी तक बात कर रहा हूँ, किताबों की, भाषा की और सिखाने-सिखाने की इत्यादि. महोदय यह सब झूठ है सिवाय मेरे यह कोई मानने वाली बात नहीं यदि ये नहीं भी रहते तो मैं कोई और माध्यम सृजन कर लेता. यहीं तो अहंकार है कि आपको उसके बारे में कुछ पता नहीं. आपका कहना, "इसके सिवा आपको कुछ दिखाई नहीं देता" यह बिलकुल वैसे ही है जैसे कोई समुन्द्र से बोले कि तुम्हें लहरे नहीं दिखाई देती क्या? कैसी छोटी बात? बात न कोई बड़ी होती है और न ही छोटी. हरेक बात झूठी होती है. जैसे आपका होना झूठ है? भाव कभी साक्षी नहीं हो सकते और हरेक भाव एक झूठ है. आप उदहारण देकर खुद को भ्रमित कर सकते हैं सूरज को चाँद साबित नहीं कर सकते. आपका कहना, "लगता है आप पैदा होते ही चलना, बोलना सब कुछ सीख चुके थे.. क्या आप ये नही मानते कि साक्षी भाव के बारे में भी आपने कहीं से पढ़ा-सुना है तब आप ये साक्षी भाव और सत्य की भाषा ओढ़ कर शब्दों के जाल में फँसे है." यह हमारा सीखना-सिखाना ही तो झूठ है. साक्षी भाव जैसी कोई चीज नहीं होती. यह एक सफ़ेद झूठ है. जी आपने सही पचाना मैं ही सब कुछ हूँ. मैं ही सब कुछ. यहाँ तक मैं ही आप हूँ और इसका एकलौता साक्षी कि आप झूठ है. अहंकार और झूठ मुझ से अलग नहीं परन्तु मैं इन दोनों से परे हूँ. यह डर भी कसौटी की एक स्थिति है. सत्य और झूठ इससे परे. तो परखने का सवाल ही नहीं उठता. यह तो आप है जो सत्य और झूठ को परखना चाहते हैं. ओशों की किताबे उतनी ही झूठी है जीतनी कि गीता. और वो जहाँ ख़त्म होते हैं मैं वहाँ से शुरू होता हूँ. आपका यकीं ही तो आपको खाए जा रहा है. क्यों भाई? अब क्या हो गया क्यों छोड़ने की बात कर रहे हैं, आइये पकडिये. क्यों जाल नहीं बिछायेंगे आप? आपकी सोच और पकड़ दोनों से परे हूँ और आप ही कि नहीं अबतक जो भी मुझे पकड़ने की बात किया है वो सब झूठ है खुद को और दूसरों को भ्रमित करने का.................ज्यादा समझाने की कोशिश मत करिए वरना उलझते जायेंगे, ज्यादा पकड़ने की कोशिश मत करिए वरना खुद कैद होते जायेंगे.................. When all the power and knowledge of world come to end, I am started from there.............................I am Anil Kumar Aline...............................हाँ.......हाँ...............हाँ.............

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

मेरे देखे, साक्षी की साधना करने वाला एक दिन निरपवाद रूप से पागल या विक्षिप्त हो जाता है- इस साधना में कही कोई बुनियादी भूल है...ये आदमी के अंदर सूक्ष्म अहंकार पैदा करता है- जितनी बार हम भीतर ये कहते हैं कि " 'मैं' देखने वाला हूँ, 'मैं' देख रहा हूँ- हमारा 'मैं' यानि अहंकार और भी मज़बूत होता जाता है... दूसरी बात देखने वाले को देखने का कोई उपाय नहीं है और मज़ा ये है कि जो ये कह रहा है कि 'मैं' साक्षी हूँ वही तो अहंकार है- कौन है जो साक्षी है--???? कोई ख़ुद से ख़ुद का साक्षी कैसे हो सकता है-??? साक्षी की बुनियाद झूठ पर खड़ी है..| कोई अगर झूठ को बार बार दोहराए तो वो सत्य प्रतीत होने लगता है- झूठ का बड़ा सम्मोहन है- ग़ालिब ठीक हैं जब वो मंसूर का मजाक उड़ाते हुए कहते हैं 'कतरा अपनी भी तो दरिया है'- ये साक्षी का ही दुष्परिणाम है कि 'जीसस कहते हैं 'मैं परमात्मा का इकलौता पुत्र हूँ', ये साक्षी का ही दुष्परिणाम है कि कृष्ण कहते हैं 'मैं ही सब हूँ',-- इस तरह की विधियाँ सिवाय पागलपन के और कुछ नहीं फैलती है...इसिलए कृष्ण के बाद जितने भी बुद्ध-पुरुष हुए उन्होंने साक्षी की साधन या 'मैं ब्रह्म हूँ' जैसी धारणों को समाप्त करने की कोशिश की...इन विधियों के बहुत दुष्परिणाम हुए हैं...- खास कर शाक्या-मुनि ने कृष्ण के और उपनिषद के ऋषियों द्वारा खोजी गयी विधियों को गलत और खतरनाक बताया ....आउट ऑफ़ डेट घोषित कर दिया....कुछ बोधि को उपलब्ध महा-पुरुषों ने सूत्रों के अर्थ बदल कर उनको साधना के योग्य बनाने की कोशिश की... होता आया है अगर दस लोग सत्य को जानने निकलते हैं तो उस में से सात तो भाग जाते हैं, और तीन पागल हो जाते हैं....इस खतरा से बचने के लिए बुद्ध ने साधना की एक नई परम्परा का अविष्कार किया...'झेन', कोई विधि नहीं कोई सूत्र नहीं-Path less path. "ख़ुदपरस्ती बुतपरस्ती से नहीं कम ऐ 'ज़फर', जिस ने छोड़ी खुदपरस्ती बुतपरस्ती छोड़ दी'' भक्ति या साक्षी की साधना दोनों भटकती है, दोनों ख़तरना है और पागल कर सकती है...ध्यान रहे जो कुछ भी ख़ुद से किया जाएगा 'मैं' के द्वरा किया जाएगा वो 'मैं' को और मज़बूत करेगा और अंत : पागल कर देगा... पागल भी तरह तरह के होते है...धार्मिक पागल धार्मिक बातें करते हैं...इस देश ने बहुतों पागलों को परमहंस समझ कर पूजा है- पागल और परमहंस में थोड़ी समानता होती है जिसकी वजह से भेद करना मुश्किल हो जाता है...!! मन यानि 'मैं' कुछ भी निर्मित कर सकता है- कुछ भी अनुभव कर सकता है- वो जो भी मान लेगा वही उसके अनुभव में आने लगता है- कोई ख़ुद को साक्षी मान लेता है तो उसको वही अनुभव में आने लगता है, कोई ख़ुद को भक्त मान लेता है तो उसको भगवन अनुभव में आने लगता है !!!

के द्वारा: Sufi Dhyan Muhammad Sufi Dhyan Muhammad

महोदय, भाषाओं के जाल में आप घिरे हुए है.. जिस अहंकार की बात आप कर रहे है मुझे उसका कोई पता नही... अहंकार शायद आपको घेरे हुए है... जो मैं साक्षी हूँ.. मैं सत्य हूँ... इसके सिवा आपको कुछ दिखाई नहीं देता... और ये साक्षी और सत्य की बातें भी आपने कहीं से पढ़ और सुन लिया है... अगर आप सच में साक्षीभाव में जीये होते तो ये मैं का अहंकार आपको घेरे न होता और एक छोटी सी बात को बताने के लिए मुझे कई तरह के उदाहरण न देने पड़ते... भला मैं क्यों बौखलाउँ... आपके साक्षी भाव की बौखलाहट तो हर लेख पर आपके द्वारा दिये गये प्रतिक्रिया से साफ-साफ पता चलता है... आप एक छोटी सी बात मानने को तैयार नही कि आपने सब कुछ इस समाज से चलना, बोलना सीख कर यहाँ तक आये है... लगता है आप पैदा होते ही चलना, बोलना सब कुछ सीख चुके थे.. क्या आप ये नही मानते कि साक्षी भाव के बारे में भी आपने कहीं से पढ़ा-सुना है तब आप ये साक्षी भाव और सत्य की भाषा ओढ़ कर शब्दों के जाल में फँसे है... और आपको लगता है कि आप ही सब कुछ है... ये ही तो अहंकार है... आप क्या कह रहे है कि सत्य को कसौटी पर परखा नही जा सकता... क्या सत्य डरता है?... तो क्या झूठ को कसौटी पर परखेंगे...? अजी छोड़िये ... आपसे क्या बात करूँ ..? अब मुझे पक्का यकीन है आपने ओशो की कुछ किताबें पढ़ या सुन ली है... और कुछ नहीं..

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

महोदय, सबसे पहले आप यह जान ले कि तर्क की कसौटी पर सत्य को कभी परखा नहीं जा सकता. यह प्रयास आपकी ओर से किया जा रहा है नतीजा यह है कि सरलता, आपके लिए और कठिन होती जा रहीं है. आपको लगता गई कि सूरज या कोई और सत्य शब्द और भाषा का मोहताज है, आपको लगता है कि यह भाषा और शब्द नहीं होते तो हम सूरज को नहीं देख पाते. जहाँ तक बात है उसे व्यक्त करने की तो हम कोई न कोई माध्यम जरुर ढूढ़ लेते. इसमे भी आपकी कोई गलती नहीं है चारो तरफ से झूठ की जो दिवार बना रखे हैं तो वही सत्य नजर आएगा क्योंकि आपके लिए सरल और सहज वही है है. आपके कहने का मतलब है कि जल, हाईड्रोजन और ऑक्सीजन से बना है, इसे हम दो भागों में विभक्त कर दिए हैं और इसे पीढ़ी-दर-पीढ़ी सिखाये जा रहे हैं, यह सत्य है और यदि हम इसे विभक्त नहीं किये होते तो यह झूठ है. कहने का मतलब कि हम जल से महरूम हो जाते. सत्य यह नहीं कि जल कितने भागों में विभक्त है सत्य यह है कि जल है. आपसे कौन कह दिया कि सत्य माना जाता है? सत्य को मानने का मतलब ही है एक झूठ, एक भ्रम, सत्य से इनकार करना. जो है उसे मानने का सवाल ही नहीं उठता. हम कुछ भी मानते नहीं जिसके हम साक्षी है उसे मानने का प्रश्न ही नहीं उठता, और यदि ऐसा हम करते है तो यह हमारी मुर्खता है, भ्रम है. जिस दिवार की आप बात कर रहे हैं उसमे आज आप कैद हैं . मैं उसे बहुत समय पाहिले तोड़कर बाहर निकल आया हूँ. अभी तक आप दरवाजे के सामने पर्दा लगा रखे थे इसलिए आपको सूरज नहीं दिखाई दे रहा जब मैं इसे हटाया तो आप कालीन लगा लिए और जब उसे हटाया तो दरवाजा लगा लिए हैं. इसका कारण यह है कि आप अहंकार कि दिवार को गिराना नहीं चाहते हैं, आप अँधेरे से बाहर निकलना नहीं चाहते हैं वरना मैं तो पहले ही आपका पर्दा हटा दिया था . आपके सारे सवालों का जवाब पहिले ही कमेन्ट में था. परन्तु आप अपने अवरोध को और मजबूत करते जा रहे हैं और जितना आप उसे मजबूत कर रहे हैं मैं उतने ही तेजी से प्रहार कर रहा हूँ. जिसका नतीजा है आपकी यह बौखलाहट. यह बनना और बिगड़ना, यह सिखना और सिखाना, यह आदमी और जानवर इत्यादि का भेद यह आपका भ्रम है, झूठ है और मैं इसका साक्षी हूँ यह सत्य है. आप जो कुएं को कठिन या कुश्किल समझ रहे हैं वह उसके कारण नहीं है वह आपके कारण है. वह तो बिलकुल वैसे ही है जैसे सूरज को देखना. मगर कोई खुद को काली कोठारी में कैद करके बोले कि सूरज मेरे लिए सहज नहीं हैं, सरल नहीं है तो यह तो उसकी मुर्खता है, भ्रम है. बिलकुल वैसे ही है हमारे अन्दर का कुआ जिसे हम अपनी तृष्णा से भर दिए है और उसके ऊपर बाहरी ज्ञान का हौज बना रखे हैं. तो सरलता कहाँ दिखलाई देगी महोदय. फिर तो मुश्किल तो बढाती जाएगी और इसमे मुश्किल कुए तक पहुँचाने में नहीं बल्कि मुश्किल हौज को तोड़ने में, जिसे हम वर्षो मेहनत से बनाये हैं और फिर उसमे बाहियात चीजे बटोर रखे हैं. फिर तो उसे तोड़ने में मोह और अहंकार को चोट तो पहुंचेगा ही. और उससे भी बड़ी मुश्किल यह है उस गड्ढे को हम अपनी तृष्णा से भर चुके है जिसे दूर करने का मतलब हम यह समझते है कि हम मर जायेंगे............हाँ एक बात और सत्य निर्णय लेने के लिए नहीं होता..................

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

वाह अनिल जी.. एक स्वस्थ तर्क नही दे सकते तो बेतुके तर्क तो मत किया कीजिये... सूरज को सूरज कहना भी आपने सीखा है.... सूरज रोशनी देता है ऊर्जा का स्रोत है.. वगैरह..वगैरह... ये सब भी आपने सीखा है... समझा है ... तब आप कहते है कि ... सूरज है.. साक्षात है... सत्य है ... पानी हाईड्रोजन और ऑक्सीजन से मिलकर बना है ये भी आपने कही सीखा है ... ये भी आपने समझा है कि कितने अणु हाईड्रोजन और कितने अणु ऑक्सीजन के मिलने से जल बनता है... सत्य मानने से इंकार मत कीजिए... यही ज्ञान के स्रोत को अवरुद्ध कर देगा... आप मानते है कि जो हम है ... जिसके साक्षी है वही सत्य है... ठीक है... लेकिन ये भी मानने से इंकार मत कीजिए कि आप कल भी थे.. वो भी एक सत्य था... आप जिस स्रोत से आए है वो भी एक सत्य है... आप न माने ये आपकी बेवजह की जिद्द है... आपने अपने द्वार को बन्द कर रखा है इसमे आपका कसूर है किसी और का नही... गीता तो सरल है सहज है ... कभी आप गा कर देखिये... और ये भी सत्य है कि इंसान के बच्चे को चलना और बोलना न सिखाया जाये तो जानवर भी कहलाने योग्य नही..... आपको भी आज चलना, बोलना, लिखना, पढ़ना सिखाया गया है.. तब आप यहाँ इस स्थिति में है.... और झूठ की बात करते है है आप ... झूठ तो कुछ है ही नही... कुछ बातें जो मेरे द्वारा नही जीया गया है वो सिर्फ मेरे लिए झूठ हो सकता है.... लेकिन वो भी एक सत्य.. है....वह मेरे लिये कितना सत्य है ये तो मुझे तब मालूम होगा जब हम उसे परख कर देखेंगे... बिना देखे किसी को झूठ और किसी को सत्य कहना तो ...फिजूल ही है ... अपनी आँखे बन्द करके कहे कोई कि सब कुछ अन्धेरा है... कुछ नया देखने के लिए तो आँखें खोलनी पड़ेगी .... और एक जगह आप कहते है कि सत्य सरल है सहज है.... और दूसरे ही क्षण कहते है कि सत्य कुआँ है ... खोदना पड़ेगा....फिर तो सत्य कठिन होना चाहिए.. मुश्किल होना चाहिए... आसानी से मिलने वाली नही होनी चाहिए... तो..पहले आप खुद ही निर्णय कर ले कि सत्य क्या है फिर आप कुछ कहें... धन्यवाद..

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

हूँ............हूँ................कमाल और मैं! बिलकुल नहीं. सूरज को सूरज कहना कोई कमाल नहीं है.........महोदय आपने कभी सुना है सत्य को समझने की बात. इससे बड़ा झूठ क्या हो सकता है कि सत्य को समझना पड़े? सत्य सहज, सरल होता है..... आप जाने-अनजाने में स्वयं गीता का अपमान कर हैं......यह कहकर कि "सच कहूँ तो जिसने भी गीता समझा वो कभी मरता नही" मतलब कि गीता एक झूठ है और यदि सत्य तो फिर समझने की बात एक बेईमानी. आपका कहना, "बिना सीखे आप एक जानवर भी बन सकते इंसान की बात तो दूर." हाँ......हाँ..........महोदय, यह कमाल सीखने का नहीं, आवश्यकता का है? और जहाँ आवश्यकता है वहाँ अविष्कार हो जाता है..........चलना भी कुछ ऐसा ही है. एक बच्चे की आवश्यकता होती है चलना कि अतः उसे चलना ही है. कोई चलाये या नहीं. आपने देखा है किसी जानवर के बच्चों को उसकी माँ द्वारा चलना सिखाते हुए. नहीं न....उसे उसकी आवश्यकता है........! जो आप यातायात के माध्यम से समझना चाह रहे हैं. मैं उसी को आपके सामने रखना चाहता हूँ क्योंकि समझना मेरे लिए एक झूठ है जो सत्य है उसे समझाने की जरुरत नहीं. उन सब चीजों के हम दिन-प्रतिदिन साक्षी होते हैं. और हमारी आवश्यकता उसे हम तक खींचती हैं. यदि आपको गीता " जीवन की सच्चाई" है तो उसमे सहजता कहाँ है, सरलता कहाँ हैं? आखिर ऐसा क्या है कि आपको सच्चाई दिखती है और दूसरों को मूर्खता? जबकि सत्य तो सबके लिए सहज होता है.........इससे स्पष्ट है कि गीता एक झूठ है.......... आपको एक बात का यकीं दिलाना चाहूंगा कि मेरी तरफ से आपको अपनी अव्यवस्ता को एकर माफी नहीं मांगनी पड़ेगी क्योंकि मैं कोई किताब या किसी के सीखे-सिखाये ज्ञान को नहीं ढो रहा जो ख़त्म हो जाएगा और फिर मुझे किसी दूसरे के तरफ रुख करना पड़ेगा. जिस दिन आप अपने सर पर बने ग्यानी रूपी झूठे हौज को तोड़कर अपनी खुदाई करेंगे तब जाकर आपको सच्चा ज्ञान मिलेगा. आपका कुआ मिलेगा. सत्य रूपी ज्ञान का कुआ जिसमे आपका अपना कुछ भी नहीं, जो कभी ख़त्म नहीं हो सकता जो दूर कहीं समुन्द्र से जुड़ा हैं. इसके लिए आपको प्रेरित नहीं किया जा सकता, सिखाया नहीं जा सकता, .जिस दिन आपको उसकी आवश्यकता होगी आप खुद उसे पा लेंगे........वरना ऐसे ही सर पर झूठ का हौज लिए घूमते रहेंगे .............

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

हा हा हा.... अनिल जी... कमाल कर दी आपने ... एक भी बात आपकी नही है इसमें ... आप कहते है कि गीता पढ़कर भी सब मर रहे है... अभी आप उपरी तल पर है... सच कहूँ तो जिसने भी गीता समझा वो कभी मरता नही.. ये बात आपने बिल्कुल सही कहा कि " हजारों वर्षों के बाद भी मानव जाति का बौद्धिक और मानसिक विकास नहीं हो पा रहा( कुछ को छोड़कर). इसका मात्र कारन यह है कि इसकी कोई आवश्यकता हम नहीं समझते. बस ढोये जा राहे है सुनी-सुनायी या फिर लिखी हुई बातों कहते और रटते जा रहे है" आपने ये बिल्कुल गलत कहा कि सीखना विनाश का कारण है... बिना सीखे आप एक जानवर भी बन सकते इंसान की बात तो दूर .... बिना सीखे तो आप चल भी नही सकते... सीखना इंसान के विनाश का कारण तब बनेगा जब कोई चलना सीखकर कुछ नए कदम चलने से पीछे भागता है डर कर.. वह पुराने को छोड़्ना नही चाहता... मै आपके उस बात का विरोध कर रहा हूँ कि जब आप पुरानी चीजो को बिना समझे अपने अहंकार वश सिरे से नकार देते है ... कुछ लोग है जो नया करना नही चाहते... पुरानी चीजो को बिना समझे ढ़ोये चले जाते जो सिर्फ नपुंसकता प्रदर्शित करता है... लेकिन गीता आज भी शोध का विषय है..... प्रमाणिक है... जीवन की  सच्चाई है... एकदम से नये आविषकार आवश्यकता के अनुसार नही किए जा सकते... पुराने चीजो को छोड़कर... जैसे आपको कही जाना है तो आज बहुत सारे माध्यम है आने-जाने के लिए... आप उसे सिरे से नकार कर एक नए आविष्कार करेंगे तो सिर्फ ये वेबकूफी होगी... और आप कुछ नही कर सकते... धन्यवाद.... और कुछ कहना हो तो बेहिचक कहिए.. माफ कीजिएगा अस्वस्थ्ता की वजह से आप्को जबाव देरी से दे पाया

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

हाँ.....................हाँ..........................................जाल .......................जो स्वयम फंसे हो वो फ़साने की ही बात सोचेगा कि मैं गड्ढे में हूँ दूसरा भी उसी में आये. अच्छा लगा कि आप औरों कुछ ज्यादे बुद्धिमान है. पर उनमे आपमें कुछ ज्यादा फर्क नहीं है. आप बिलकुल उस व्यक्ति की तरह प्रतीत हो रहे हैं जो पप्रकाश तो देख हो परन्तु तरफदारी अँधेरा की कर रहा हो ताकि दुसरे भी अँधेरे में रहे. यह जाल आपने मेरी इच्छा के अनुसार बिछाया है. मुझे भी आप ही की तलाश थी. आपका कहना , " गीता जीने का एक सूत्र है …. जिसे अपने जीवन के प्रयोगशाला मे प्रयोग करने की जरूरत है" तो आप बताना चाहेंगे कि गीता को पढ़ने के बाद भी लोग मर क्यों रहे हैं सिवाय दो-चार को छोड़कर? ठहरिये हड़बड़ी करने की जरुरत नहीं इसका भी जवाब मैं देता हूँ क्योंकि वो लोग अपने जीवन के प्रयोगशाला में लाये ही नहीं. परन्तु कभी आपने यह सोचा क्यों? यदि आप कहेंगे कि स्वार्थ, सत्ता, वर्चस्व या किसी अन्य कारण से उपयोग में नहीं ला पाते या उन्हें कुछ नहीं सुझता तो महोदय आप बताना चाहेंगे कि क्या उस कारण का जवाब गीता में नहीं है? यक़ीनन है? परन्तु सवालों के जवाब होने से समस्या का समाधान नहीं हो पाता? उसके लिए प्रयास करना पड़ता है. यह प्रयास वहाँ होता है जहाँ आवश्यकता होती है फिर अविष्कार हो जाता है. हजारों वर्षों के बाद भी मानव जाति का बौद्धिक और मानसिक विकास नहीं हो पा रहा( कुछ को छोड़कर). इसका मात्र कारन यह है कि इसकी कोई आवश्यकता हम नहीं समझते. बस ढोये जा राहे है सुनी-सुनायी या फिर लिखी हुई बातों को जीना भूल गए हैं. कुछ समय के लिए मान लेता हूँ कि आपकी बात सत्य है. यह जीने का सूत्र है तो क्या कोई जीने का की कला सीखकर मरने का गुण बतायेगा? मेरे कहने का मतलब है कि कोई किसी मैप पर चलकर मंजिल तक पहुँचाने के बाद किसी दूसरे को मैप के बारे में बतायेगा या फिर अपने अनुभवों के आधार पर उस रास्ते को बतायेगा. निश्चय ही अपने अनुभव को बतायेगा. अतः मंजिल तक जाने का रास्ता मिल जाने के बाद वह मैप उसके लिए झूठ हो जाता है. आज चरों तरफ यही हो रहा है. आपका कहना, "आपने ये पूछना जो सबसे सीखा है वो कहाँ से सीखा है?" यह सीखना ही तो हमारे विनाश का कारण. इसके चक्कर में हम जीना भूल गए. हाँ आपका यह प्रश्न सार्थक है , "और मै दावे के साथ कह सकता हूँ कि इस सवाल में भी आपका क्या है ?" परन्तु आपने दावा शब्द लगाकर इसे निर्थक कर दिया क्योंकि साथर्कता या सत्य को किसी दावे की जरुरत नहीं. केलिए आते है मुद्दे पर क्या है? तो जो सवाल आपसे किया हुआ यह सवाल खुद से भी किया हूँ. यह जानने के लिए कि कहीं मैं किसी भ्रम में, झूठ में तो नहीं या फिर मैं मर तो नहीं रहा ...............मैं सवयम का साक्षी हो रहा हूँ ........................................ और हाँ आप जो जाल बिछाने की कोशिश कर रहे हैं वो मैं वर्षों से बिछाते आया हूँ................जिसका परिणाम पूरी मानव जाति भुगत रही है.................अब मुक्त करने आया हूँ................धर्म से, भगवान् से, झूठ से .......................यहाँ तक कि खुदी को खुद से.........

के द्वारा: अनिल कुमार ‘अलीन’ अनिल कुमार ‘अलीन’

अनिल जी... अब आप सही जगह पर आये है ... आपकी हर प्रतिक्रिया में सिवाय उस लेख को दुत्कारने के और कुछ नही रहता... जबाब मे लेखक आपसे पीछा छुड़ाने के और कुछ नही करते.... लेकिन मै आपको सही राह जरूर दिखाउँगा... आप जो सब से ये पूछते रहते है कि "इसमें आपका क्या है" और धर्म और गीता के लिए आप उलूल जूलूल बकते रहते है .. मै आपसे ये पूछता हूँ कि आपने ये पूछना जो सबसे सीखा है वो कहाँ से सीखा है ... और मै दावे के साथ कह सकता हूँ कि इस सवाल में भी आपका क्या है ? अब आपके द्वारा कही गई बातों पर आता हूँ - कोई किसी को पिजड़े मे बन्द नही रख सकता और न हि रहने को कहता है... अगर कोई कैद रहता है तो इसमे उसकी अपनी मंशा है सहमति है.... आपने सही कहा गीता धारण करने और कराने की चीज नहीं.... गीता जीने का एक सूत्र है .... जिसे अपने जीवन के प्रयोगशाला मे प्रयोग करने की जरूरत है ... उसे गाते रहने की नहीं .... इस लेख को लिखने का मकसद सिर्फ आपको अपने जाल मे फाँसना था... और आज आप मेरे इस जाल में फँस गये है ... और कोई सवाल हो तो पूछ सकते है आप... किसी अन्य लेखक को परेशान और इस मंच को दूषित करने की कोशिश कृप्या न करे.... अपने जोश को सही दिशा दें...  अन्यथा भटक सकते है ... आप... आपका धन्यवाद....

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

आदरणीय भगवान बाबू जी,सादर प्रेम.गीता के अध्याय ३ श्लोक ३ में ज्ञानयोग और कर्मयोग कि चर्चा है.ज्ञानयोग--कर्तापन के अभिमान से रहित होकर सर्वव्यापी परमात्मा में एकीभाव से स्थित रहने का नाम ज्ञानयोग है और कर्मयोग-फल और आसक्ति को त्यागकर भगवत आज्ञानुसार केवल भगवान के लिए समत्वबुद्धि से कर्म करने का नाम निष्काम कर्मयोग है.अभ्यास और वैराग्य की चर्चा गीता में अन्यत्र कई जगह पर और स्पष्ट रूप में है.गीता के अध्याय १२ श्लोक ९ में अभ्यास का अर्थ बताया गया है.अथ चित्तं समाधातुं न शक्नोषि मयि स्थिरम् । अभ्यासयोगेन ततो मामिच्छाप्तुं धनंजय ॥१२- ९॥अर्थात-हे अर्जुन,यदि तुम अपने मन को मुझमे अचल रूप से स्थापित करने में समर्थ नहीं हो तो अभ्यासरूप योग के द्वारा मुझको प्राप्त होने की कोशिश करो.(भगवन के नाम और गुणो का श्रवण,कीर्तन,मनन,तथा श्वांस के द्वारा जप और भगवत प्राप्तिविषयक शास्त्रों का पठान-पठान इत्यादि चेष्टाएँ भगवत्प्राप्ति के लिए बारम्बार करने का नाम अभ्यास है.)वैराग्य के बारे में अध्याय १२ का १२वा श्लोक देखिये-श्रेयो हि ज्ञानमभ्यासाज्ज्ञानाद्ध्यानं विशिष्यते । ध्यानात्कर्मफलत्यागस्त्यागाच्छान्तिरनन्तरम् ॥१२- १२॥अर्थात-अभ्यास से ज्ञान श्रेष्ठ है,ज्ञान से मुझ परमेश्वर के स्वरुप का ध्यान श्रेष्ठ है और ध्यान से भी,सब कर्मों के फल का त्याग श्रेष्ठ है,क्योंकि त्याग से तत्काल ही परम शांति होती है.(केवल भगवान के लिए कर्म करने वाले पुरुष का भगवान में प्रेम और श्रद्धा तथा भगवान का चितन भी बना रहता है,इसीलिए ध्यान से कर्मफल का त्याग श्रेष्ठ कहा गया है.)कर्मफल से लगाव या अटैचमेंट नही रखने का सुझाव अध्याय २ के ४७वा श्लोक में है-कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन । मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि ॥२- ४७॥अर्थात-तेरा कर्म करने में ही अधिकार है,उसके फलों में कभी नहीं,इसीलिए तू कर्मों के फल का हेतु मत हो तथा तेरी कर्म करने में भी आसक्ति न हो.अंत में एक बार पुन:गीता पर लेख लिखने के लिए बधाई.हमें ये चर्चा और इस तरह के लेख बराबर लिखते रहना चाहिए.शुभकामनाओं सहित.

के द्वारा:

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

के द्वारा: Rajesh Kumar Srivastav Rajesh Kumar Srivastav

ऐसा भी नही है कि इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने में समाज के सिर्फ अशिक्षित वर्ग ही सम्मिलित है, साधु-संत, शिक्षक, वकील, सांसद, विधायक, और यहाँ तक की न्याय की मूर्ति जजों पर भी इस तरह के कूकृत्य में लिप्त होने की बात कही जा रही है। और मुझे तो लगता है कि अशिक्षित वर्ग के ही इसमें कम-से-कम लिप्त होने की आशंका रहती है। तो इसे क्या माना जाए? क्या लोग अपने पदों का इस्तेमाल अपने नीचे स्तर पर काम कर रहे महिलाओं को डरा धमका कर अपनी यौन विकृति की भूख को मिटाने की कोशिश कर रहे है? अब तो कानून भी आ गया भगवान् जी किन्तु असर कुछ पड़ता हुआ सा नहीं लगता ! कैसे रुकेगी ये आग , जब हर कोई ये समझ बैठा है कि उसका कुछ नहीं होने वाला !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

सचिन हमेशा से एक प्रेरणा रहे हैं और मुझ जैसे लोग जिन्हे क्रिकेट में उतनी दिलचस्पी नहीं वह भी इंसान के गुण के तौर पर सचिन को पूजते हैं आज जब सचिन कोल्कता में खेलने जा रहे हैं आपका यह ब्लॉग और उसकी एक अविस्मरणीय पंक्ति "सा नहीं है कि सचिन को अपने करियर के दौर में बुरे वक्त से गुजरना न पड़ा हो, लेकिन सचिन ने उन हालातों में भी अपना धैर्य और संयम बरकरार रखते हुए अपने आलोचकों को अपने बल्ले से ही जबाव दिया न कि जुबान से। इससे बिल्कुल साफ हो जाता है कि सचिन, क्रिकेटर के साथ-साथ एक बहुत ही अच्छे इंसान भी है। उनके खेल से ये साफ-साफ पता चलता है कि वो हमेशा अच्छे खेल को तरजीह देते है न कि जीत और हार को।" मुझे इस ब्लॉग को दोबारा पढने से नहीं रोक पाया. साभार सचिन को बहुत सी शुभकामना

के द्वारा: yamunapathak yamunapathak

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

के द्वारा: deepakbijnory deepakbijnory

के द्वारा:

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

के द्वारा: शालिनी कौशिक एडवोकेट शालिनी कौशिक एडवोकेट

के द्वारा: Bhagwan Babu 'Shajar' Bhagwan Babu 'Shajar'

भारत ! जहाँ बच्चा जन्म के बाद अपने आवाज की शुरूआत ही हिन्दी के “माँ” और “बा” से करता है। लेकिन पश्चिमी सभ्यता के समावेश और इसके आकर्षण से हिन्दी आज समाज में हाशिये पर आ गयी है। हाशिये से मुख्य पृष्ठ पर लाने के लिए हमें हिन्दी के लिए कुछ महत्वपूर्ण व ठोस कदम उठाने होंगे, जिससे कि समाज में इसकी जरूरत बढ़े। हिन्दी से लोगो की आजीविका भी दुरूस्त हो। लोग ज्यादातर अपने आजीविका पर ही ध्यान केन्द्रित करके कोई भी कार्य करते है। अगर हिन्दी इस कार्य में सफल होता है तो फिर हिन्दी के लिए किसी दिवस या पखवारे की औपचारिकता निभाने की कोई जरूरत नहीं रह जाएगी। पखवारे या दिवस सिर्फ रस्म निभाने भर है। और कोई भी रस्म किसी की महत्ता को नही बढ़ा सकता।एक बढ़िया कहानी से शुरू करके आपने बेहतरीन आलेख दिया है श्री भगवान् बाबु जी !

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: bhanuprakashsharma bhanuprakashsharma

के द्वारा: deepakbijnory deepakbijnory

के द्वारा: DR. SHIKHA KAUSHIK DR. SHIKHA KAUSHIK

आपने जिन बातों को अपने लेख में सुझाया है वो बिलकुल उचित हैं पर मेरी हिन्दी के सभी लेखकों से एक अपील है कि कृपया केवल समस्या पर विचार करने कि जगह अगर हम इसके निदानों पर भी अपने सुझाव दे सकें तो शायद हिन्दी को आगे एक नई दिशा देने मैं सफलता अवश्य मिलेगी, उसके लिए ये जानना जरूरी है कि अंग्रेजी को जैसे अंग्रेजों ने दुनिया कि साड़ी भाषाओं के साहित्य का अनुवाद करके इसके साहित्य को समर्द्ध बना दिया वैसा करने कि जरूरत है. काश हमारे देश कि युवा पीढ़ी ऐसा कुछ कर पाती और इस देश के सरकार इन कुछ अनुवाद करने वालों को उचित प्रोत्साहन देती तो हिन्दी विश्व मैं अपना एक स्थान बनाने मैं पूर्ण सक्षम है. सुभकामनाओं के साथ ..रवीन्द्र

के द्वारा: Ravindra K Kapoor Ravindra K Kapoor

के द्वारा: rekhafbd rekhafbd

हिन्दी को फिर से इस समाज और देश मे सम्मान दिलाने के लिए सबसे पहले सरकार को ही मुहिम चलानी होगी। जो अंग्रेजी नही जानते उनकी तनख्वाह, हर क्षेत्र मे नौकरी पाने वाले यहाँ तक की स्कूलों मे भी, बहुत कम होती है। लोगो की दृष्टि भी हिन्दी बोलने वालों के प्रति अलग होती है। इसकी वजह से जो अंग्रेजी नही जानते है वो किसी महफिल या किसी सभा में भी खड़े होकर बोलने में हिचकते रहते है। आजकल तो हिन्दी और संगीत की सभाओं में भी लोग अंग्रेजी में ही सम्बोधित करने लगे है। इन सभी बातों से लोगो की सोच हिन्दी के प्रति नकारात्मक हो चुकी है। देश में फैले बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ जहाँ हिन्दी को पानी भरना भी नसीब नही होता। सरकार को चाहिए कि नौकरी के हर क्षेत्र मे हिन्दी की भी उतनी ही मांग बढ़ाये जितनी की आज अंग्रेजी की है। sateek likha hai

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा:

के द्वारा: Bhagwan Babu Bhagwan Babu

के द्वारा:

के द्वारा: Bhagwan Babu Bhagwan Babu

के द्वारा: Bhagwan Babu Bhagwan Babu

के द्वारा: Madan Mohan saxena Madan Mohan saxena

के द्वारा:

भगवान जी मैंने आपका लिखा हुआ लेख '' ढोंगी बाबाओं … '' पढ़ा . बहुत ही सार्थक लेख . भगवान जी एक बात मैं कहना चाहूँगी कि जनता तो बेवकूफ है ही पर इसका पूरा श्रेय मीडिया को भी जाता है . उसे पैसों की पडी रहती है . पहले आसा राम बापू को लेकर कितना हंगामा हुआ फिर भी उनके प्रवचन टी . वी पर आते रहे और बेवकूफ जनता सोचती रही कि महान लोगों पर तो कीचड़ उछालते ही रहते हैं फिर निर्मल बाबा उन पर भी कई आरोप लगे वो फिर से आजकल टी .वी पर आ रहे हैं . आखिर क्यों ? सरकार भी कम जिम्मेदार नहीं दूरदर्शन मंत्री इनके कार्यक्रम पर रोक क्यों नहीं लगा रहे . देखा जाये मामलों में सिर्फ एक के ऊपर ऊँगली उठाना ठीक नहीं . मैं तो कहती हूँ कि सभी को भगवान की भक्ति और धर्मगुरुओं को छोड़कर कबीर दास जी के पद चिन्हों पर चलना चाहिए सारा का सारा झंझट ही खत्म हो जायेगा . मैं भी कबीरदास जी की अनुयायी हूँ .

के द्वारा:

क्या लिखूं जी बहुत सारी बाते है यहाँ पर तो बोलने के लिए| कहीं ना कहीं से तो शुरू करना ही है... भागवत गीता में लिखा है की कलयुग में पाखंडियों का बोलबाला होगा| एक कथा में शिव-शक्ति को भी यही बात कह रहे है-"बुराई का वर्चस्व देखते हुए अधिकतम व्यक्ति उस समय बुराई के साथ चलने लगेंगे|" तो यह सब तो होना ही था निश्चित था| मानव विकास के साथ कुछ नकारात्मकताओं का विकास भी होना निश्चित है| किन्तु सभी साधू पाखंडी होते है यह कहना उचित नही| जिस तरह सभी इंसान एक से नही होते सभी साधू भी पाखंडी नही होते| और यह बात भी सत्य है की कलयुग में काम क्रोध लोभ मद मोह पर विजय प्राप्त करना लगभग असंभव है| किन्तु पूरी तरह से नही| उदहारण के लिए कुछ जैन मुनि है जो इन विकारों को त्यागने के लिए पहले प्रशिक्षित किये जाते है, तत्पश्चात ही प्रवचन देने के लिए उपस्थित होते है| नागा साधू भी उदहारण स्वरुप प्रयोग किये जा सकते है| सन्यासियों की छोड़िये, कुछ गृहस्त भी साधू बन जाते है जो स्वयं को साध लेते है| गृहस्ती में रहते हुए भी भगवत मार्ग पर चलते है| कर्म योगी होते है| कई मार्ग से नदियाँ बहती है उस सागर में मिलने के लिए, भक्ति योग, ज्ञान योग, प्रेम योग और भी कई रास्ते है भगवत प्राप्ति के जिनसे काम क्रोध लोभ मोह पर विजय प्राप्त करके पुरुषार्थ के साथ जीवन व्यापन किया जा सकता है| और जीवन भर हर परिस्थिती में सुख दुःख से पार जाकर आनंद का अनुभव किया जा सकता है और मरणोपरांत भी परम आनंद में लीन हुआ जा सकता है| गुरु बनाना आवश्यक है, कुछ मुख्य कारणों में से एक कारण यह है की उससे आपने जो ज्ञान प्राप्त किया है उसपर आपको अहंकार ना हो | आपको भी पता चले की आपका भी कोई गुरु है जिसे आपसे भी अधिक ज्ञान है| जिससे आपका विकास रुके नही| परन्तु जेसा कृष्ण भग्वन ने कहा है| कलयुग में ढोंगी और पाखंडियों का अनुसरण किया जाने लगेगा| इसे रोका नही जा सकता किन्तु जागरूकता पैदा की जा सकती है | साधू संतो में श्रद्धा रखी जानी चाहिए किन्तु अपना परम गुरु केवल परमात्मा(शिव) को ही बनाना चाहिए तथा ध्यान के माध्यम से उनसे परम ज्ञान प्राप्त करना चाहिए धीरे धीरे विवेक जागेगा और अच्छे बुरे में भेद वेसे ही पता चल जायेगा, गुरु होने के कारण अहंकार भी नही उपजेगा| हर अच्छे फल का श्रेय अपने गुरु(परमात्मा) को देना और अनिष्ट का भार स्वयं उठाना, आत्म चिंतन करके पश्चाताप की अग्नि में तपते हुए प्रायश्चित करना| कोयले से हीरा केसे बना जाता है यह ज्ञान हो जाना... इसीलिए हमारे शास्त्रों में इतने वर्षों के गहन अध्ययनों के बाद ब्रह्म ज्ञानियों ने मूर्ती पूजा तथा अनेक और विधियाँ इजात की गयी जो मनुष्य की सायाकोलोजी को नियंत्रित करके उसे सत् मार्ग पर चलाये| और बुराईयों से दूर रखे, हर क्षण मनुष्य का ध्यान परम सत्य स्वरुप शुद्ध प्रेम स्वरूप अनंत कोटि ब्रहमांड नायक सच्चिदानंद परम गुरु महादेव(परमात्मा) की और कर सके| किन्तु ऐसा करने के लिए उन शास्त्रों तथा उनकी विधियों में श्रद्धा होना तथा उनका अनुसरण करना आवश्यक है| और भी बहुत कुछ छुपा है हमारे वेद पुराण शास्त्रों में, जानने वाला चाहिए ज्ञान तो अनंत है| ज्ञान, प्रेम, विश्वास, कर्म, या सृष्टि की कोई भी सकारात्मक चीज़ यदि शुद्ध अवस्था में है तो वो परमात्मा का ही रूप है| जाति से नहीं 'गंदगी' से परहेज करें.. इंसानों से नहीं 'पशुत्व' से परहेज करें.. अपने आप से नहीं 'पाप' से परहेज करें.. विश्वास से नहीं 'झूंठी आस्था' से परहेज करें.. पंडित से नहीं 'पोंगा-पंडित वाद' से परहेज करें.. प्रेम से नहीं प्रेम के प्रति आसक्ति से परहेज करें.. कर्तव्य कर्म से नहीं "कुछ न करने" से परहेज करें.. अंधविश्वास को त्यागो विश्वास को नहीं| अंधश्रद्धा को त्यागो श्रद्धा को नही| _▂▃▅▇█▓▒░जय शिव░▒▓█▇▅▃▂_

के द्वारा:

के द्वारा: Bhagwan Babu Bhagwan Babu

के द्वारा:

प्रिय महानभावो , क्या विहिप और बजरंग दल का हिन्दुत्व ही वास्तवित हिन्दुत्व है ? क्या आप इस  ही हिन्दुत्व को मान्यता दे कर समस्त हिन्दुत्व को दफन कर देने की वकालत कर रहें हैं । आवश्कता है वास्तविक हिन्दुत्व को समझने  और उसको मान्यता देने की है । वह हिन्दुत्व जो स्वामी विवेकानन्द  का हिन्दुत्व है । यह सही है कि हिन्दुत्व न धर्म है और न जाति है । हिन्दुत्व एक सकारात्मक विचारधारा  है । जो धर्म से निरपेक्ष नहीं , धर्म के सापेक्ष है । जिस प्रकार किसी भी देश , जाति अथवा सम्प्रदाय का  व्यक्ति समाजवादी , साम्यवादी अथवा राष्टवादी हो सकता है । उसी प्रकार किसी भी देश , जाति अथवा सम्प्रदाय का व्यक्ति हिन्दुत्व वादी भी हो सकता है ।  कभी कार्ल मार्क्स ने धर्म की विकृतियों को ही वास्तविक धर्म समझ कर , धर्म को दफन कर देने का  आदेश दिया था । परन्तु धर्म समाप्त नहीं हुआ , वरन कार्ल मार्क्स का साम्यवाद समाप्ति के कगार पर अवश्य पहुच गया है । वैसे ही वास्तविक हिन्दुत्व भी कभी समाप्त नहीं होगा ।  विस्तार से जानने के लिये देखें  हिन्दुत्व क्या और हिन्दू कौन ?  

के द्वारा: anilkumar anilkumar

हिंदुत्व की परिभाषा कई महान लोगों ने दी है . यह व्याख्या उस वक्त दी जब हिन्दू दूसरे देशों में नहीं फैले हुए थे . पर आज हिन्दू पूरे विश्व में फैले हुए हैं . अब मैं आपसे एक प्रश्न करना चाहूँगा कि यदि दूसरे देश लोग भी कुछ अपने देश से सम्बन्धित कुछ इसी तरह की व्याख्या दें तो क्या आपको मान्य होगा क्या आप हिंदुस्तानी को अमरिकन , पाकिस्तानी , अफगानी या अन्य मानने को तैयार हो जायेंगें क्या इस बात के लिए आपका दिल गवाही देगा . मेरे भाई ये बड़ी बड़ी बातें आजादी से पहले कहीं गयीं थीं जो सुनने में अच्छी लगती हैं लेकिन जो सत्य है वही अमिट सत्य है . हाँ एक बात और बताइए -- आपने व्यंग किया है कि '' जो मन्दिरों को टूटते देखे वही हिन्दू है '' फिर आपने लिखा है कि '' हिन्दू कोई जाति या धर्म नहीं '' राजेश जी एक बात बताइये जब हिन्दू कोई जाति या धर्म नहीं तो आप मन्दिरों को टूटते देखकर विचलित क्यों होते हैं ? टूटने दीजिये . इन्सान से धर्म बनता है न कि धर्म से इन्सान जिस हिंदुत्व , संस्क्रति या जीवन दर्शन पर इतना गुमान कर रहे हैं वही सब कुछ ही तो दूसरे मजहबों की किताबों में लिखा हुआ है इससे अलग कुछ नहीं जरा आप उन्हें खोलकर तो देखें . दूसरे ग्रन्थों में भी आदर्श जीवन शैली की झलक आपको मिलेगी .

के द्वारा:

मंदिरों को जो टूटते देखे वो हिन्दू है / मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाये जाये और जो मौन बैठे रहे वो हिन्दू है / बसुधैव कटुम्ब्कम में विस्वास रखने वाले हिन्दुओं का जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाय और जो धर्म निरपेक्षता का रटना लगाए वो हिन्दू है / कश्मीर घाटी में हिन्दुओं का नरसंहार हो और जिसकी लेखनी सेकुलर पर दाग ना लगने के भय से रुक जाय वो हिन्दू है / लेकिन - जो गणतांत्रिक ढंग से राजनीती के माध्यम से हिन्दुओं को उनका अधिकार दिलाने की बात करे वो अछूत है / वाह रे सोच ! भारतवर्ष में सबकुछ जायज परन्तु राजनीती करना नाजायज़ है / याद रखियेगा भारत में जहाँ जहाँ हिंदुत्व कमजोर हुआ वह क्षेत्र भारत से अलग हुआ या होने के कगार पर है / अतः भारत के अखण्डता के लिए हिन्दुत्व को मजबूर करना सभी देश्प्रेमिओं का धर्म है /

के द्वारा: Rajesh Kumar Srivastav Rajesh Kumar Srivastav

के द्वारा: Bhagwan Babu Bhagwan Babu

के द्वारा: Bhagwan Babu Bhagwan Babu